MP Board Class 8th Hindi Bhasha Bharti Solution Chapter 17 – वसीयतनामे का रहस्य

हिन्दी भाषा भारती पाठ 17 वसीयतनामे का रहस्य

बोध प्रश्न

प्रश्न 1.
निम्नलिखित शब्दों के अर्थ शब्दकोश से खोजकर लिखिए
उत्तर
दूरदर्शी-दूर तक की बात सोचने वाला; न्यायप्रियन्याय (इन्साफ) चाहने वाला; निष्पक्ष = बिना भेदभाव के; विवाद – झगड़ा; जटिल = कठिन; जायदाद = सम्पत्ति; वसीयत = वसीयत सम्बन्धी लिखित आदेश।

प्रश्न 2.
निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर संक्षेप में लिखिए
(क) वसीयतनामे का अर्थ समझाइए।
उत्तर
सम्पत्ति के बँटवारे का लिखित आदेश वसीयतनामा कहा जाता है।

(ख) गाँव का वयोवृद्ध व्यक्ति किस विशिष्ट कार्य के लिए प्रसिद्ध था ?
उत्तर
गाँव का वयोवृद्ध व्यक्ति अपनी बुद्धिमानी, दूरदर्शिता व न्यायप्रियता के लिए प्रसिद्ध था। वह झगड़ों और विवादों का निपटारा निष्पक्षता से करता था। वह एक न्यायप्रिय पंच के रूप में चारों ओर प्रसिद्ध था।

(ग) वसीयतनामे में जायदाद कितने पुत्रों को बाँटने का संकेत था?
उत्तर
वसीयतनामे में जायदाद के तीने हिस्से करके उसे तीन भाइयों (पुत्रों) में बाँट दिया जाय, परन्तु उस वसीयतनामे में यह नहीं लिखा था कि किस भाई को (पुत्र को) हिस्सा न दिया जाए।

(घ) बँटवारे का अन्तिम निर्णय किसने किया ?
उत्तर
बँटवारे का अन्तिम निर्णय महाराजा ने किया।

(ङ) राजा के प्रथम दो महलों में जो दो लोग मिले, वे कौन थे?
उत्तर
राजा के प्रथम दो महलों में जो दो लोग मिले, उनमें क्रमश: सत्रह-अठारह वर्ष का एक युवक और उन्नीस-बीस वर्षीय अद्वितीय सुन्दर कन्या थी।

(च) पंचों को किस बात की शंका थी?
उत्तर
पंचों को इस बात की शंका थी कि वृद्ध किसान के तीन बेटे असली है व एक बेटा उसका नहीं है। तभी तो उसने अपनी जायदाद के तीन हिस्से करने की बात वसीयत में लिखी है।

(छ) वसीयतनामे में क्या लिखा था ?
उत्तर
वसीयतनामे में दो बातें लिखी हुई थीं। पहली सम्पूर्ण जायदाद के तीन हिस्से कर उसे तीन भाइयों में बाँट दिया जाए, लेकिन यह नहीं लिखा था कि किस भाई को हिस्सा न दिया जाए। दूसरी-जो पंच इस बात का फैसला करे उसके साथ बेटी का विवाह कर दिया जाए।

प्रश्न 3.
निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर विस्तार से लिखिए(क) झगड़े का कारण क्या था?
उत्तर
चारों भाई जायदाद के बँटवारे को लेकर आपस में झगड़ने लगे। जायदाद के तीन हिस्से थे और हिस्सेदार थे चार। तीन हिस्से को चार भाइयों में किस प्रकार विभाजित किया जाए। उन चार भाइयों में से कोई एक भाई अपना हिस्सा छोड़ देता तो न्याय हो जाता परन्तु कोई भी अपना हक छोड़ने के लिए तैयार नहीं था। बुद्धिमान पिता ने इस तरह की वसीयत क्यों लिखी ? इसमें कोई न कोई रहस्य अवश्य होगा।

(ख) गाँव वालों को वसीयत के बारे में जानकर आश्चर्य क्यों हुआ?
उत्तर
गाँव वालों को जब वसीयतनामे के बारे में जानकारी हुई तो उन्हें आश्चर्य हुआ क्योंकि वसीयतनामे में जायदाद का बँटवारा तीन हिस्सों में किया था जबकि उस वृद्ध किसान के चार पुत्र थे। जायदाद का बँटवारा तो चारों पुत्रों में बराबर ही होना चाहिए था। गाँव वाले लोग सोचने लगे कि इतने बुद्धिमान व्यक्ति ने इस तरह की वसीयत क्यों लिखी अवश्य ही इसमें कोई रहस्य की बात होगी। अत: गाँववासियों ने विवाद को बहुत ही कठिन समझा। इसलिए उन्होंने उन चार भाइयों को वसीयतनामे के रहस्य को समझने के लिए गाँव में पंचायत बुलाने की सलाह दी।

(ग) गाँव के वृद्ध व्यक्ति ने राजा से कौन-सी दो बातें पूछीं?
उत्तर
गाँव के वृद्ध व्यक्ति ने राजा से दो बातें बड़ी विनम्रता से पूर्थी

  1. पहली बात यह कि अब वे महल के पास से गुजर रहे थे तो उन्हें एक युवक मिला था। उस युवक से जब आपके (राजा के) बारे में पूछा तो उस युवक ने उन्हें बताया (गाँव के वृद्ध व्यक्ति को बताया) कि राजा को मरे हुए तीन साल हो गए हैं।
  2. दूसरी बात यह कि जब वे दूसरे महल के पास से गुजर रहे थे तो वहाँ उन्हें एक रूपवती कन्या मिली। उसने उन्हें (गाँव के वृद्ध व्यक्ति को) बताया कि आप (राजा) अन्धे हो गए हैं। उपर्युक्त दोनों की बातों का क्या रहस्य है ?

(घ) राजा ने तीनों भाइयों को अलग-अलग ले जाकर क्या कहा ?
उत्तर
राजा तीनों भाइयों को अलग-अलग ले गये और हर एक को अपनी तलवार देकर कहा कि वह शेष तीनों की हत्या उसकी तलवार से कर सकता है परन्तु इन तीनों ने ऐसा करने से इन्कार कर दिया। वे अपने-अपने हिस्से की जायदाद छोड़ने के लिए तैयार हो गये।

(ङ) क्या तीनों भाई राजा के प्रस्ताव से सहमत थे?
उत्तर
तीनों भाई राजा के प्रस्ताव से सहमत नहीं थे। वे जमीन जायदाद के लालच में अपने भाइयों की हत्या करना नहीं चाहते थे। वे अपने इस फैसले पर अडिग थे। वे सभी अपने हिस्से की जायदाद को अपने अन्य भाइयों के लिए छोड़ने के लिए तैयार थे। उनके अन्दर त्याग की भावना उच्च स्तर की थी और वे अपने भाइयों को आपस में फलता-फूलता देखना चाहते थे।

(च) चौथा भाई राजा के द्वारा दिए गए प्रस्ताव से क्या सोचकर सहमत हो गया ?
उत्तर
महाराजा चौथे भाई को किसी एकान्त कमरे में ले गए। राजा ने उसे अपनी तलवार दे दी और सलाह दी कि वह अपने शेष तीन भाइयों को उनकी तलवार से कत्ल कर दे। वह चौथा भाई अपने तीन भाइयों को कत्ल करने के लिए तैयार हो गया क्योंकि उसने सोच लिया था ऐसा अवसर, जो उसे हाथ लगा है कि उसके लिए बहुत ही शुभ है। वह शीघ्र ही धनवान हो जायेगा। अपने भाइयों का कत्ल करके उसे पूरी जायदाद मिल जाएगी। इसके अतिरिक्त उसका विवाह भी महाराजा की सुन्दर बहन से हो जाएगा। इस तरह के विचारों को सोचकर चौथा भाई राजा के द्वारा दिए गए प्रस्ताव से सहमत हो गया।

(छ) राजा ने समस्या का निदान कैसे किया ?
उत्तर
धनवान होने तथा महाराजा की सुन्दर बहन के साथ विवाह होने के रंगीन सपने देखते हुए उस चौथे भाई को महाराजा | ने जेल में डाल दिया। महाराजा बाहर निकलकर आए। उन्होंने उनके साथियों को पूरी बात बतलाई तथा उन्हें समझा दिया। सभी लोग इस निर्णय से बहुत ही प्रसन्न थे । वे सभी सोचने लगे कि छोटा भाई अपने पिता को इसी तरह कष्ट देता होगा। इसलिए ही उन्होंने (उनके पिता ने) अपनी जायदाद के तीन हिस्से किए थे। तीन भाइयों ने अपने-अपने हिस्से की जायदाद प्राप्त कर ली और समस्या का निदान बड़ी चतुराई से कर दिया।

प्रश्न 4.
सही विकल्प चिह्नित कीजिए वसीयतनामे के विषय में जानकर पंचों को शक था
(1) वसीयतकर्ता मूर्ख था
(2) भूल से उससे गलती हो गई
(3) तीन बेटे असली हैं और एक बेटा उसका नहीं है।
उत्तर
(3) तीन बेटे असली हैं और एक बेटा उसका नहीं है।

भाषा-अध्ययन

प्रश्न 1.
जायदाद विदेशी शब्द है, इसके स्थान पर मानक हिन्दी शब्द सम्पत्ति होता है। इसी प्रकार इस पाठ में प्रयुक्त निम्नलिखित शब्दों के मानक हिन्दी शब्द लिखिए
वसीयतनामे, हिस्सा, हिस्सेदार, हक, राहगीर, शानदार, फैसला, मामला, गुजर, राज, होशियार।
उत्तर
वसीयतनामे = सम्पत्ति का लिखित आदेश; हिस्सा = भाग; हिस्सेदार = भागीदार; हक = अधिकार; राहगीर = पथिक, शानदार = चमकीला, तेज; फैसला = न्याय; मामला = विषय; गुजर = व्यतीत: राज=रहस्य ,होशियार = चतुर, सावधान।

प्रश्न 2.
इस पाठ में आने वाले विभिन्न कारकों के उदाहरण छाँटकर लिखिए।
उत्तर:

प्रश्न 3.
निम्नलिखित वाक्यों में से साधारण वाक्य, मिश्रित वाक्य और संयुक्त वाक्य अलग करके लिखिए
(क) एक गाँव में एक किसान रहता था।
(ख) जायदाद के तीन हिस्से थे और चार हिस्सेदार थे।
(ग) यदि एक भाई अपना हिस्सा छोड़ देता तो न्याय हो जाता।
(घ) वे सोचने लगे कि इतने बुद्धिमान व्यक्ति ने ऐसी वसीयत क्यों लिखी?
(ङ) एक दिन पंचायत लगी थी।
(च) महाराजा हंसते हुए बोला और उठकर खड़ा हो गया।
उत्तर
(क) साधारण वाक्य
(ख) संयुक्त वाक्य
(ग) मिश्रित वाक्य
(घ) मिश्रित वाक्य
(ङ) साधारण वाक्य
(च) संयुक्त वाक्य।

प्रश्न 4.
निम्नलिखित शब्द,शब्द युग्म हैं या पुनरुक्त ? उनके सामने लिखिए
(क) दूर-दूर, (ख) तरह-तरह, (ग) राम-राम, (घ) सत्रह-अठारह, (ङ) युवक-युवती, (च) उन्नीस-बीस, (छ) अपना-अपना, (ज) एक-दो।
उत्तर
(क) पुनरुक्त
(ख) पुनरुक्त
(ग) पुनरुक्त
(घ) शब्द युग्म
(ङ) शब्द युग्म
(च) शब्द युग्म
(छ) पुनरुक्त
(ज) शब्द युग्म।

प्रश्न 5.
पाठ में दिए गए प्रसंग के अनुसार सही जोड़े (विशेषण-विशेष्य)  बनाइए।

उत्तर- (1)→ (स), (2) → (य), (3) (ब), (4) (अ),(5) (र),(6)→(द)

प्रश्न 6.
उदाहरण की तरह शब्दों के रूप परिवर्तित कीजिए
उदाहरण – दुकान-दुकानें, कपड़ा-कपड़े।

बहन, भाई, युवक, युवती, महल, सपना, मामला, राहगीर।
उत्तर

  1. बहनें
  2. भाइयों
  3. युवकों
  4. युवतियाँ
  5. महलों
  6. सपने
  7. मामलों
  8. राहगीरों।

प्रश्न 7.
शिक्षक की सहयता से इस पाठ के कुछ महत्त्वपूर्ण वाक्यों को अनुतान के साथ (भिन्न-भिन्न ढंग से)
पढ़िए और उनके बोलने से होने वाले अर्थ परिवर्तन को समझिए।
उत्तर
विद्यार्थी आदरणीय गुरुजी की मदद से स्वयं अभ्यास करें।