MP Board Class 6th History Solution Chapter 7 :   अशोक: एक अनोखा सम्राट जिसने युद्ध का त्याग किया

म.प्र. बोर्ड कक्षा छठवीं संपूर्ण हल- इतिहास– हमारे अतीत 1 (History: Our Pasts – I)

Chapter 7   अशोक: एक अनोखा सम्राट जिसने युद्ध का त्याग किया

प्रश्न – अभ्यास (पाठ्यपुस्तक से)

महत्वपूर्ण बिन्दु

  • अशोक मौर्य वंश के सबसे प्रसिद्ध शासक थे जिन्होंने अभिलेखों द्वारा अपने संदेश पहुँचाने की कोशिश की।
  • ‘धम्म’ संस्कृत शब्द ‘धर्म’ का प्राकृत रूप है।
  • आधुनिक भारत के ज्यादातर लिपियाँ पिछले सैकड़ों वर्षों में ब्राह्मी लिपि से उत्पन्न हुई।
  • लगभग 2400 वर्ष पहले, चीन के सम्राटों ने चीन की दीवार का निर्माण शुरू किया।
  • चीन की दीवार का निर्माण कार्य लगभग 2000 वर्षों तक चला। अर्थशास्त्र के लेखक महान विद्वान कौटिल्य (चाणक्य) हैं।

महत्वपूर्ण शब्द

राजधानी – राज्य का शासन केन्द्र, राज्य का वह नगर जहाँ राजा का स्थायी निवास हो।

वंश जब एक ही परिवार के कई सदस्य एक के बाद एक राजा बनते हैं, उसे वंश कहते है।

साम्राज्य – वह बड़ा राज्य जिसके अधीन बहुत से देश हों और जिसमें किसी एक सम्राट का शासन हो।

महत्वपूर्ण तिथियाँ

मौर्य साम्राज्य की शुरूआत – 2300 साल से

चीन की दीवार का निर्माण – 2400 वर्ष पहले।

अशोक की मृत्यु – 232 बी. सी. ।

पाठान्तर्गत प्रश्नोत्तर

पृष्ठ संख्या # 68

प्रश्न 1. उन देशों के नाम बताओ जहाँ अशोक के अभिलेख मिले हैं ? भारत के कौन-से राज्य मौर्य साम्राज्य से बाहर थे?

उत्तर (क) जिन देशों में अशोक के अभिलेख मिले हैं

(i) भारत, (ii) अफगानिस्तान, (ii) पाकिस्तान, (iv) बंग्लादेश, (v) नेपाल।

(ख) भारत के अग्रलिखित राज्य मौर्य साम्राज्य के बाहर थे

(i) सिक्किम, (ii) नगालैण्ड, (iii) असम, (iv) मेघालय, (v) त्रिपुरा ।  

पृष्ठ संख्या # 70

प्रश्न 2. राजा द्वारा खाना खाने के पहले खास नौकर उस खाने को क्यों चखते थे ?

उत्तर – राजा को हमेशा इस बात का डर रहता था कि कहीं कोई उसकी हत्या करने की कोशिश न करें। इसलिए राजा के खाना खाने के पहले खास नौकर उस खाने को चखता था।

प्रश्न 3. पाटिलपुत्र मोहनजोदड़ो से किस तरह भिन्न था ?

उत्तर – पाटिलपुत्र और मोहनजोदड़ो में अन्तर

पृष्ठ संख्या # 71

प्रश्न 4. कलिंग की लड़ाई से युद्ध को लेकर अशोक के विचारों में कैसे परिवर्तन हुआ ?

उत्तर – कलिंग की लड़ाई में लगभग 1 लाख लोग मारे गए इससे उसे अपार दुख हुआ। बहुत सारे लोग बंदी बनाए गये। लोग अपने मित्रों परिवारीजनों सगे सम्बन्धियों से बिछुड़ गये, किसी देश को जीतने में इतने सारे लोगों का वध करना पड़ता है। जन, धन की अपार हानि होती है। युद्ध में जो मारे जाते है, वह अपने प्रियजनों को हमेशा-हमेशा के लिए खो देते हैं। यह सब बातें अशोक के हृदय को द्रवित कर देती हैं वह पश्चाताप की अग्नि में जलने लगता है और कभी भी युद्ध न करने का निर्णय ले लेता है। साथ ही बौद्ध धर्म अपनाकर उसका प्रसार-प्रचार भी करने लगता है।

पृष्ठ संख्या #74

प्रश्न 5. पड़ोसी देशों के प्रति अशोक का रवैया चीनी सम्राटों के रवैये से कैसे भिन्न था ?

उत्तर – कलिंग के युद्ध के बाद पड़ोसी देशों के प्रति अशोक का रवैया मित्रतापूर्ण था तथा सभी के साथ शान्तिपूर्ण सम्बन्ध बनाए थे जबकि चीनी सम्राटों का पड़ोसी देशों के प्रति शत्रुतापूर्ण व्यवहार था। वे पड़ोसी देशों के साथ युद्ध करते रहते थे इसलिए उनकी सीमाएँ बदलती रहती थीं।

कल्पना करो

प्रश्न 6. तुम कलिंग में रहती हो और तुम्हारे माँ-बाप को युद्ध के काफी दुख उठाने पड़े हैं। अभी-अभी अशोक के दूत धम्म के नए विचारों को लेकर आए हैं। आप अपने माता-पिता और संदेशवाहकों के बीच बातचीत का वर्णन करो।

उत्तर – कलिंग में युद्ध के बाद सब कुछ नष्ट सा दिखाई दे रहा है। हर तरफ लाश ही लाश नजर आ रही है पूरे राज्य में सन्नाटा छाया है। सारे सगे-सम्बन्धी आपस में बिछुड़ गये हैं। हर कोई विलाप कर रहा है। तभी अशोक के दूत धम्म की शिक्षा देने आये हैं। धम्म के माध्यम से लोगों का दिल जीतना बलपूर्वक विजय पाने से ज्यादा अच्छा है। इसलिए अशोक ने धम्म महामात्र नाम के अधिकारियों की नियुक्ति की जो जगह-जगह जाकर धम्म की शिक्षा दे रहे हैं। अशोक के पश्चाताप को देखते हुये माता-पिता भी संदेशवाहकों के प्रति आदर भाव से धर्म के विश्वासों को समझने की कोशिश कर रहे हैं।

पाठान्त प्रश्नोत्तर

आओ याद करें

प्रश्न 1. मौर्य साम्राज्य में विभिन्न काम-धंधों में लगे हुए लोगों की सची बनाओ।

उत्तर-मौर्य साम्राज्य में विभिन्न काम-धंधों में लगे लोगों की सूची

(1) कृषक, (2) पशुपालक, (3) शिल्पकार, (4) व्यापारी, (5) संदेशवाहक, (6) राजदूत (जासूस), (7) मंत्री, (8) शिकारी, (9) खाद्य-संग्राहक।

प्रश्न 2. रिक्त स्थानों को भरो

(क) जहाँ पर सम्राटों का सीधा शासन था वहाँ अधिकारी ……………. वसूलते थे।

(ख) राजकुमारों को अक्सर प्रान्तों में ……………. के रूप में भेजा जाता था।

(ग) मौर्य शासक आवागमन के लिए महत्त्वपूर्ण ………….. और …………..पर नियन्त्रण रखने का प्रयास करते थे।

(घ) प्रदेशों में रहने वाले लोग मौर्य अधिकारियों को …………….दिया करते थे।

उत्तर – (क) कर, (ख) राज्यपाल (गर्वनर), (ग) मार्गों, नदियों, (घ) नजराने।

प्रश्न 3. बताओ कि निम्नलिखित वाक्य सही हैं या गलत

(क) उज्जैन उत्तर-पश्चिम की तरफ आवागमन के मार्ग पर था।

(ख) आधुनिक पाकिस्तान और अफगानिस्तान के इलाके मौर्य साम्राज्य के अंदर थे।

(ग) चन्द्रगुप्त के विचार अर्थशास्त्र में लिखे गए हैं।

(घ) कलिंग बंगाल का प्राचीन नाम था।

(ङ) अशोक के ज्यादातर अभिलेख ब्राह्मी लिपि में है।

उत्तर – (क) गलत, (ख) सही, (ग) गलत, (घ) गलत, (ङ) सही  

आओ चर्चा करें

प्रश्न 4. उन समस्याओं की सूची बनाओ जिनका समाधान अशोक धम्म द्वारा करना चाहता था।

उत्तर – समस्याओं की सूची जिनका समाधान अशोक धम्म द्वारा करना चाहता था

(1) विभिन्न धर्मों के बीच आपसी मतभेद।

(2) जानवरों का शिकार एवं बलि।

(3) दासों एवं नौकरों के साथ क्रूर व्यवहार।

(4) राज्यों और पड़ोसी राज्यों के बीच झगड़े।

(5) परिवार में व पड़ोसियों के बीच झगड़े।

प्रश्न 5. धम्म के प्रचार के लिए अशोक ने किन साधनों का प्रयोग किया ?

उत्तर – अशोक ने धम्म के प्रचार के लिए निम्नलिखित साधनों का प्रयोग किया।

(1) अशोक के धम्म महामात्त नाम के अधिकारियों की नियुक्ति की जो जगह-जगह पर जाकर धम्म की शिक्षा देते थे।

(2) अशोक ने अपने संदेश कई स्थानों पर शिलाओं और स्तम्भों पर खुदवा दिए। अधिकारियों को यह निर्देश दिया गया कि वे राजा के संदेश को उन लोगों को पढ़कर सुनाएँ जो खुद नहीं पढ़ सकते थे।

(3) विदेशों में धम्म प्रचारक और प्रतिनिधियों को भेजा।

प्रश्न 6. तुम्हारे अनुसार दासों और नौकरों के साथ बुरा व्यवहार क्यों किया जाता होगा ? क्यों तुम्हें ऐसा लगता है कि सम्राट के आदेशों से उनकी स्थिति में सुधार हुआ होगा? अपने जवाब के लिए कारण बताओ।

उत्तर – दासों और नौकरों के साथ बुरे व्यवहार के कारण

(1) दासों और नौकरों का स्थान वर्ण व्यवस्था में सबसे निचले स्तर पर था।

(2) दास और नौकर प्रायः युद्ध विजय के बाद राजाओं द्वारा बंदी बनाये जाते थे, वे उन्हें अपनी निजी सम्पत्ति समझते थे।

(3) दासों और नौकरों की समस्याओं के निराकरण के लिए कोई राजनीतिक संगठन नहीं था। सम्राट के आदेशों से दासों की स्थिति में अवश्य सुधार हुआ होगा क्योंकि धम्म के द्वारा दासों की समस्याओं को दूर करने का प्रयास किया गया था।

आओ करके देखें

प्रश्न 7. रौशन को यह बताते हुए कि हमारे रुपयों पर शेर क्यों दिखाए गए हैं एक पैराग्राफ लिखो। कम-से-कम एक और चीज का नाम लो जिस पर इन्हीं शेरों के चित्र बने

उत्तर – रौशन हमारे रुपयों पर शेर इसलिए दिखाए गए हैं क्योंकि यह शेर हमारे भारत का राजचिन्ह है। भारतीय पहचान और विरासत का मूलभूत हिस्सा है। ये प्रत्येक भारतीय के हृदय में गौरव और देश-भक्ति की भावना का संचार करते हैं। इसलिए सभी भारतीय मुद्रा पर यह शेर दिखाई देते हैं। यह कई स्थानों पर भारत के राष्ट्रीय प्रतीक के रूप में कार्य करता है। भारतीय पासपोर्ट पर, राष्ट्रीय ध्वज पर अशोक चक्र (पहिया) के रूप में, अंतर्देशीय पत्रों तथा स्टाम्प पेपर पर भी दिखायी देते है।

प्रश्व 8. अगर तुम्हारे पास अपना अभिलेख जारी करने की शक्ति होती तो तुम कौन-सी चार राजाज्ञाएँ देते ?

उत्तर-अगर हमारे पास अभिलेख जारी करने की शक्ति होती तो हम निम्नलिखित चार राजाज्ञाएँ देते

(1) समाज में व्याप्त वर्ण व्यवस्था समाप्त की जाए।

(2) सभी को समान अधिकार व अवसर की समानता दी जाएँ।

(3) सभी धर्मों का सम्मान करते हुये धर्मनिरपेक्ष की नीति का पालन किया जाए।

(4) स्त्रियों व पुरुषों को बराबर के अधिकार दिये जाएँ।

MP Board NCERT Class 6th History Solution Chapter 7 :   अशोक: एक अनोखा सम्राट जिसने युद्ध का त्याग किया